Shero Shayari in Hindi

Shero Shayari in Hindi

Top 100 Shero Shayari in Hindi शेरो शायरी Sher O Shayari

Shero Shayari in Hindi शेरो शायरी, Sher O Shayari, Best Shero Shayari – Shero Shayari शेरो शायरी हिन्दी में के इस Best Shayari के Collection में आपका स्वागत है दोस्तों …

Friends… आप हमारे Telegram Channel से अवश्य जुड़ें यहाँ हर रोज नये सुविचार और बहुत सारे Shayari और Status Videos आपके लिए उपलब्ध कराया जाता है।

यहाँ Click करें → Telegram Channel

Telegram

 

खुदा ने यूँ ही नहीं लिखा तुझे मेरी किस्मत में…
वो भी जानता है कि मुझे कितनी मोहब्बत है तुमसे…

 

Shero Shayari in Hindi

 

जब कुछ नहीं रहा पास तो…
रख ली तन्हाई संभाल कर मैंने…
ये वो सल्तनत है जिसके बादशाह भी हम…
वजीर भी हम हैं और फकीर भी हम…

 

शायद मेरी नेकियों का कुछ असर अभी बाकी है…
या कि तुम्हारी कोशिशों में कुछ कसर अभी बाकी है…
गर्दिशों में रहकर भी अगर मुकर्रर है मेरा वजूद…
तो मंजिल है तेरी दूर तेरा सफर अभी बाकी है…

 

यह कैसी मोहब्बत है यह कैसी इबादत है…
आपही को मानते है खुदा…
फिर आप ही से यह शिकायत क्यों है…

 

Shero Shayari in Hindi

 

पहुंच ना सकेंगे तुम तक पैगाम आँखों के…
नजरों ने शर्म का जो पर्दा डाल रखा है…
हया को कितनी हिफाजत से पाल रखा है…
तेरे लिये ही तो हमने खुद को सम्भाल रखा है…

 

उसने यार बदल दिया और मैंने शहर बदल दिया…
और ज्यादा फर्क कहाँ रहा हमारी मोहब्बत में…
उसने मुस्कुराकर मुझे छोड़ दिया और…
मैंने रो कर उसे छोड़ दिया…

 

न जाने किस तरह का इश्क कर रहे हैं हम…
जिसके कभी हो ही नहीं सकते उसी के हो रहे हैं हम…

 

Shero Shayari in Hindi

 

तुम्हारे नाम को होंठों पर सजाया है मैंने…
तुम्हारी रूह को अपने दिल में बसाया है मैंने…
दुनिया आपको ढूंढते ढूंढते हो जायेगी पागल…
दिल के ऐसे कोने में छुपाया है मैंने…

 

हिस्सा हिस्सा तुझे लिखूँ कैसे…
किस्सा किस्सा मेरी किताब है तू…
तेरी आँखों के चंद ख्वाबो में…
मेरी किस्मत की हसीन रात है तू…
कैसे लिख दूँ कि दूर है कितना…
मेरी साँसों के साथ साथ है तू…

 

इसे भी पढ़ें Love WhatsApp Status

 

पता नहीं इतनी अदाएं कहाँ से लाती हो…
बस पलकें झुकाती हो और कहर ढा जाती हो…

 

Shero Shayari in Hindi

 

और कितने आंसू बहाऊँ उसके लिए…
जिसको खुदा ने मेरे नसीब में लिखा ही नहीं…

 

वो रात दर्द और सितम की रात होगी…
जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी…
उठ जाता हूँ मैं ये सोचकर नींद से अक्सर कि…
एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी…

 

यहाँ Click करें → Telegram Channel

 

कभी खुशियों का सरगम लिखेंगे…
कभी आँखों का पानी लिखेंगे…
मिल के अब हम बड़े प्यार से…
जिन्दगी की कहानी लिखेंगे…

 

तेरी निगाहों को पर्दे की जरूरत क्या है जानेमन…
वैसे भी कौन रहता है होश में इन्हें देखने के बाद…

 

Shero Shayari in Hindi

 

तमन्ना तेरे जिस्म की होती तो छीन लेते दुनिया से…
इश्क तेरी रूह से है इसलिए खुदा से मांगते हैं तुझे…

 

तेरी झील सी आँखों में डूब जाने का दिल चाहता है…
वफा पर तेरी बर्बाद हो जाने का दिल चाहता है…
कोई सम्भाले हमें बहक रहे हैं कदम…
तेरे इश्क में मर जाने का दिल चाहता है…

 

तुम ही तुम दिखते हो हमे कुछ तो हुआ जरूर है…
ये आईने की भूल है या मेरी निगाहों का कसूर है…

 

Shero Shayari in Hindi

 

बहुत सुकून मिलता है जब उनसे हमारी बात होती है…
वो हजारों रातों में वो एक रात होती है…
जब निगाहें उठा कर देखते हैं वो मेरी तरफ…
तब वो ही पल मेरे लिए पूरी कायनात होती है…

 

किसी न किसी को किसी पर एतबार हो जाता है…
एक अजनबी सा चेहरा ही यार हो जाता है…
खूबियों से ही नहीं होती मोहब्बत सदा…
किसी की कमियों से भी कभी प्यार हो जाता है…

 

ये बहारें हम पर इस कदर छा गई…
निगाहें निगाहों से टकरा गई…
ये जो दिल की बात थी लबों पर आ गई…

 

Shero Shayari in Hindi

 

दिल का हाल बताना नहीं आता…
हमें ऐसे किसी को तड़पाना नहीं आता…
सुनना तो चाहतें हैं हम उनकी आवाज को…
पर हमें कोई बात करने का बहाना नहीं आता…

 

इसे भी पढ़ें Romantic Love Shayari

 

तेरे लिए ही हर वक्त लबों पर दुआ क्यों है…
अगर इतनी ही मोहब्बत है तो हम जुदा क्यों हैं…

 

इल्जाम तो हर हाल में काँटों पर ही लगेगा…
ये सोचकर अक्सर कुछ फूल भी चुपचाप जख्म दे जातें हैं…

 

Shero Shayari in Hindi

 

मिले जो महबूब तो शराब सा मिले…
कि बेखुदी ऐसी हो कि फिर होश ना रहे…

 

तुम्हारे नाम को होंठों पर सजाया है मैंने…
तुम्हारी रूह को अपने दिल में बसाया है मैंने…
दुनिया आपको ढूंढते ढूंढते हो जायेगी पागल…
क्योंकि दिल के ऐसे कोने में छुपाया है मैंने…

 

यहाँ Click करें → Telegram Channel

 

तू चाँद तो मैं एक सितारा होता इस आसमान में….
वहाँ भी एक आशियाना हमारा होता लोग तुम्हें दूर से देखते…
और नजदीक से देखने का हक बस हमारा होता…

 

Shero Shayari in Hindi

 

कभी मैं भी तेरी मोहब्बत के नशे में था…
मेरी आँख में भी खुमार था मगर अब नहीं…
कभी ये दिल बाग-ओ-बहार था मगर अब नहीं…
तेरा जिक्र वजह-ऐ-करार था मगर अब नहीं…

 

तेरी अदाओं का मेरे पास कोई जवाब नहीं है…
अब मेरी आँखों में तेरे सिवा कोई ख्वाब नहीं है….
तुम मत पूछो मुझे कितनी मोहब्बत है तुमसे…
इतना ही जानो मेरी मोहब्बत का कोई हिसाब नहीं…

 

गुनहगार तो आपकी नजरें हैं मोहतरमा वरना…
कहाँ ये चाँद से चेहरे नकाब मांगते हैं…

 

Shero Shayari in Hindi

 

इसे भी पढ़ें True Love Shayari

 

नादान है मेरी जिन्दगी इसलिए चुप हूँ…
दर्द ही दर्द सुबह शाम इसलिए चुप हूँ…
कैसे कह दूँ जमाने से दास्तान अपनी…
उसमें आएगा तेरा नाम इसलिए चुप हूँ…

 

कैसे लफ्जों में बयां करूँ मैं खूबसूरती तुम्हारी…
सुंदरता का झरना भी तुम हो मोहब्बत का दरिया भी तुम हो…

 

Shero Shayari in Hindi

 

कल्पना हो तुम मेरी एक नया एहसास हो..
मिले तो नहीं अभी तक पर लगता है तुम पास हो…

 

मुझे रब ने सिर्फ सब को तंग करने के लिए बनाया है…
ये इश्क का तो तूने हम पर इल्जाम लगाया है…

 

इजहार ऐ इश्क की खतिर कई अल्फाज सोचे थे…
खुद ही को भूल बैठें हम जब तुम सामने आये…

 

Shero Shayari in Hindi

 

मुद्दत से जिसके वास्ते दिल बेकरार था…
वो लौट के ना आई जिसका इंतजार था…
मंजिल करीब आई तो वो दूर हो गयी…
इतना तो बता जाती कि मेरा कैसा प्यार था…

 

तू ही मिल जाये मुझे ये ही काफी है…
मेरी हर साँस ने बस यही दुआ माँगी है…
जाने क्यों दिल खींचा जाता है तेरी तरफ…
क्या तुमने भी मुझे पाने की कोई दुआ माँगी है…

 

मोहब्बत सिर्फ दो जिस्मों की दास्तान नहीं…
ये एक रुह पर रुह के फना होने की कहानी है…

 

Shero Shayari in Hindi

 

सितारे भी जाग रहें हो रात भी सोई ना हो…
ऐ चाँद मुझे वहाँ ले चल जहाँ उसके सिवा कोई ना हो…

 

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है…
दिल न चाह कर भी खामोश रह जाता है…
कोई सब कुछ कहकर प्यार जताता है…
कोई कुछ न कहकर भी सब बोल जाता है…

 

क्या वो भी रोया होगा मुझे छोड़ जाने के बाद…
जो हर पल मुझे…
अपनी जिंदगी की इबादत और आदत कहा करता था…

 

Shero Shayari in Hindi

 

रात तो क्या पूरी जिन्दगी भी…
जाग कर गुजार दूँ तेरी खातिर…
बस तू एक बार कह कर तो देख कि….
मुझे तेरे बिना नींद नहीं आती…

 

यहाँ Click करें → Telegram Channel

 

दीदार की तलब हो तो नजर जमाये रखना…
क्योंकि नसीब हो या दुपट्टा सरकता जरुर है…

 

तेरे साथ के आगे जन्नत कुछ भी नहीं और…
तेरे साथ के सिवा मेरी कोई मन्नत भी नहीं…

 

Shero Shayari in Hindi

 

हाथ में कलम आँखों में ख्वाब लिए फिरता हूँ…
कहानी मेरी मैं खुद लिखूँगा…
कुछ गम कुछ खुशियों के पल लिखूँगा…
तकदीर में लिखा कौन बदलेगा…
जब मेरी किस्मत मैं खुद लिखूँगा…

 

ये आलम शौक का देखा न जाये…
वो बुत है या खुदा है देखा न जाये…
ये किन नजरों से तुम ने आज देखा मुझको…
कि तेरा देखना ​भी अब देखा ​ना जाये…

 

कैसे करें इंतजार तेरे लौट आने का अभी तो…
दिल को यकीन नहीं हुआ है तेरे चले जाने का…

 

Shero Shayari in Hindi

 

जल्दी में था कोई शायद…
कहानी इश्क की अधूरी छोड़ गया…
लफ्जों से बात ना बनी तो…
कमबख्त वो खामोशी से दिल तोड़ गया…

 

कहा सवालों ने तुमसे जवाब मांगते हैं…
हम अपनी आँखों के हिस्से का ख्वाब मांगते हैं…
हम ही को दरिया पर जाने से रोकने वाले…
हम ही से पानी का सारा हिसाब मांगते हैं…
अजीब लोग हैं इन पर तो रहम आता है…
जो काँटे बो कर जमीन से गुलाब मांगते हैं…

 

इसे भी पढ़ें Dard Bhari Shayari

 

यारों जरा देखो जमाने को…
हम पर क्या क्या इल्जाम लगा दिया…
आँखें उनकी नशीली थी और…
हम पर शराबी का इल्जाम लगा दिया…

 

Shero Shayari in Hindi

 

कितना चाहा कि ना जाऊँ मोहब्बत की गली…
पर इस दिल के आगे मेरी एक ना चली…

 

जिसको चाहा कभी उसको पा ना सके…
हर वादा हम निभा ना सके…
तुमको लगा हमको मिल गई होगी मोहब्बत…
पगली प्यार तो तुमसे था मगर तुमको बता ना सके…

 

रुलाना था तो हंसाया क्यों जाना था तो मनाया क्यों…
जब हो ही नहीं सकते मेरे तो…
मेरी आँखों में सपना सजाया क्यों…

 

Shero Shayari in Hindi

 

खामोश क्यों है ऐ दिल कभी तो सवाल कर…
नाराज है तो टूट जा ऐ दिल मगर जरा संभाल कर…

 

ऐ दिल कहने दे मुझको दिल की बात है…
सो गई है धड़कनें मगर जागे हैं जज्बात…
मुझको छोड़ा है सब ने अब बस खुदा साथ है…
मुझको टूटा समझ के ना ठुकरा ऐ जमाने…
एक दिन बताऊँगा तूझको मेरी भी औकात है…

 

यहाँ Click करें → Telegram Channel

 

माना कि कभी दिल की बात ना बताओगे…
पर आँखों में जो है वो कैसे छुपाओगे…
वादा रहा ये हमारा तुमसे ऐ सनम…
जब भी दिल में झाकोगे हमारी ही तस्वीर पाओगे…

 

Shero Shayari in Hindi

 

तुझे दिल से जुदा कभी होने नहीं देंगे…
हाथ हमारा कभी छोड़ने नहीं देंगे…
तेरी मुस्कान ही इतनी प्यारी है की…
हम मर भी जाये पर तुझे रोने नहीं देंगे…

 

सपनों की दुनिया में हम खोते चले गए…
मदहोश न थे पर मदहोश होते चले गए…
ना जाने क्या बात थी उस चेहरे में ऐसी…
ना चाहते हुए भी उसके होते चले गए…

 

नींद चुराने वाले पूछते हैं सोते क्यों नहीं…
इतनी ही फिक्र है तो फिर हमारे होते क्यों नहीं…

 

बचपन में जहाँ चाहा हँस लेते थे जहाँ चाहा रो लेते थे…
पर अब मुस्कान को तमीज चाहिए और आंसुओ को तन्हाई…

 

हुस्न और इश्क का झगड़ा कोई मसला ही नहीं…
रूठना और मनाना तो अदा है इनकी…

 

मुझे मालूम है कि ये ख्वाब झूठे हैं…
और ख्वाहिशें अधूरी हैं मगर जिंदा रहने के लिए…
कुछ गलतफहमियां भी जरूरी है…

 

अगर मेरे नाम पर एक दफा भी धड़क उठे तुम्हारा दिल…
तो समझ लीजिएगा इश्क सच्चा है हमारा…

 

कोई उम्मीद नहीं थी हमें उनसे…
मुहब्बत की एक जिद थी कि…
दिल टूटे तो सिर्फ उनके हाथ से टूटे…

 

सिसकियाँ लेता है वजूद मेरा गालिब…
नोंच नोंच कर खा गई तेरी याद मुझे…

 

कोई भी फर्क नहीं होता है…
जहर और प्यार में…
जहर पी कर लोग मर जाते हैं और…
प्यार करके लोग जी नहीं पाते हैं…

 

जहर भी है… एक दवा भी है इश्क…
तुझसे और तुझ तक… मेरी रजा है इश्क…
जिस्म छू कर तो… हर कोई एहसास पा जाए…
रूह तक महसूस हो… वो नशा है इश्क…

 

कि चाहकर भी तेरे करीब नहीं जा सकता…
कि ना जाने कैसी ये मजबुरी है…
हाँ मोहब्बत मेरी एकतरफा है ना…
शायद इसीलिए ये अधूरी है…

 

इतनी लम्बी उम्र की दुआ मत माँग मेरे लिए…
ऐसा ना हो कि…
तू भी छोड़ दे और मौत भी ना आए…

 

वो तो दिवानी थी मुझे तन्हा छोड़ गई…
खुद न रुकी तो अपना साया छोड़ गई…
दुख न सही पर गम इस बात का है कि…
आँखों से किया वादा वो होंठो से तोड़ गई…

 

फिर तलब हुई है तुम्हारे होंठो की…
मैं मयखाने से प्यासा लौट आया हूँ…
शिकार होने तुम्हारी कातिल निगाहों से…
मैं फिर वही दिल लाया हूँ…

 

वो मोहब्बत भी तेरी थी वो नफरत भी तेरी थी…
वो अपनाने और ठुकराने की हर अदा भी तेरी थी…
हम अपनी वफा का इंसाफ माँगते भी तो कैसे…
वो शहर भी तेरा था वो अदालत भी तेरी थी…

 

इसे भी पढ़ें Pyar Wali Shayari

 

इबादत रब की हो और जब सूरत यार की हो…
सजदा रब का और रस्म प्यार की हो…
आशिकों के मजहब का क्या कहना…
जिक्र रब का और बात जब यार की हो…

 

दूरियों से फर्क नहीं पड़ता है…
बात तो दिलों की नजदीकियों से होती है…
दिल के रिश्ते तो किस्मत से बनते है वरना…
मुलाकात तो जाने कितनों से होती है…

 

मोहब्बत में हमने नसें काट ली थी जनाब…
मगर मौत तब हुई…
जब उसने बोला तो मैं क्या करूँ…

 

तेरे प्यार में दो पल की जिंदगी बहुत है…
एक पल की हँसी और एक पल की खुशी बहुत है…
यह दुनिया मुझे जाने या ना जाने…
तेरी आँखें मुझे पहचान ले बस यही बहुत है…

 

हमारी शायरियाँ के जादू से तुम कहाँ वाकीफ हो…
हम उन्हे भी महब्बत सीखा देते हैं….
जिन्हे इश्क का शौक भी ना हो…

 

अलविदा कह के जब वो चल दिए…
इन आँखों ने सारे हसीन ख्वाब खो दिए…
दर्द तब नहीं हुआ जब वो हमें छोड़ दिए…
दिल के टुकड़े टुकड़े तो तब हुए जब…
वो हमें अलविदा कहते ही खुश हो गए…

 

सितारे भी जाग रहे हो रात भी सोई ना हो…
ऐ चाँद मुझे वहाँ ले चल जहाँ उसके सिवा कोई ना हो…

 

हर किसी के दिल में किसी की प्यास है…
जिन्दगी में हर पल किसी की आस है…
क्यों चाँद रहता है तन्हाई में…
जब चाँदनी हरदम उसी के पास है…

 

उमर की राह मे रस्ते बदल जाते हैं…
वक्त की आंधी में इन्सान बदल जाते हैं…
सोचते हैं तुम्हें इतना याद न करें लेकिन…
आँखें बंद करते ही इरादे बदल जाते हैं…

 

मेरे चेहरे की हंसी हो तुम…
मेरे दिल की हर खुशी हो तुम…
मेरे होंठों की मुस्कान हो तुम…
धड़कता है मेरा ये दिल जिसके लिए…
बस वही मेरी जान हो तुम…

 

इरादा कत्ल का था तो मेरा सर कलम कर देते…
क्यों इश्क में डूबो कर तूने मेरी हर साँस पर मौत लिख दी…

 

पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं…
वो सोचते हैं कि हम कभी रोये ही नहीं…
वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो…
और हम हैं कि उनकी यादो में सोए ही नहीं…

 

हमें मालुम था अपने दिल्लगी का नतिजा…
तभी मोहब्बत से पहले शायरी लिखी थी हमने…

 

औकात की बात मत कर पगली…
हम जिस गली में पैर रखते हैं…
वहाँ की लड़कियाँ अक्सर कहती हैं कि…
बहारों फूल बरसाओ मेरा महबूब आया है…

 

उसके इन्तजार के मर रहें हैं हम…
उसकी यादों के सहारे कब तक जिएंगे हम…
दुनिया जीत कर भी क्या करना है अब हमें…
जिसे दुनिया से जीता था आज उसी से हारे हैं हम…

 

तुम्हें कभी पूरा लिखूँ कभी अधूरा लिखूँ…
मैं रातों में बैठकर तुम्हें सवेरा लिखूँ…
मैं जब भी लिखूँ बस इतना लिखूँ…
मुझे तेरा और तुझे मेरा लिखूँ…

 

प्रेम पारस है जिसे छू ले उसे कुंदन कर दे…
प्रेम इबादत है जिसे हो जाए उसे खुदा कर दे…
प्रेम सफर है जिसे हो जाय उसे मुसाफिर कर दे…
प्रेम तपस्या है जिसे हो जाय उसे फकीर कर दे…
प्रेम गजब है जिसे हो जाये उसे जन्नत दे दे…

 

एक मजबूत दोस्ती को रोज-रोज बात करने…
या साथ रहने की जरुरत नहीं होती…
जब तक रिश्ता दिल में जिंदा रहता है…
सच्चे दोस्त कभी अलग नहीं होते…

 

कल मोहब्बत के शहर में गजल सुनाने गया था…
पता चला मोहब्बत आज मेरे घर तक चली आई…
वो आगे बढ़ गई मेरे हालात को देखकर…
यारों ये मोहब्बत तो मेरी उम्मीद से महंगी थी…

 

शिकायत मौत से नहीं अपनों से थी मुझे…
जरा सी आँख बंद क्या हुई वो कब्र खोदने लगे…

 

कैसे बयान करें आलम दिल की बेबसी का…
वो क्या समझे दर्द इन आँखों की नमी का…
उनके चाहने वाले इतने हो गए हैं कि…
अब उन्हे एहसास ही नहीं हमारी कमी का…

 

इसे भी पढ़ें God Shayari in Hindi

 

निगाहें जब मिली उनसे तभी दिल हार बैठा हूँ…
मैं उस पर सब कुछ लुटाने के लिए तैयार बैठा हूँ…
अगर एक बार कह दे वो कि आ जाओ मेरे दिल में…
मैं दुनिया की सारी रस्मों को भी भुलाने बैठा हूँ…

 

निगाहें फेर कर जो हमसे दूर बैठे हो…
इधर भी देखिए मोहतरमा हम बेकसूर बैठे हैं…

 

मैं चूड़ियाँ ही कांच की दे पाया था उसे…
फिर यूँ हुआ कि वो सोने के कँगन पर मर गई…

 

लिख देना ये अल्फाज मेरी कब्र पर कि…
मौत अच्छी है मगर…
किसी से दिल लगाना ठीक नहीं…

 

नीचे आ गिरती है हर बार दुआ मेरी…
पता नहीं कितनी ऊचाई पर खुदा रहता है…

 

उसको बेवफा कहकर अपनी ही नजर में गिर जाते है हम…
वो प्यार भी अपना था और वो पसंद भी अपनी थी…

 

कोशिश बहुत की राज ऐ मोहब्बत बयां ना हो…
पर मुमकिन कहाँ था कि
इस चाँद के आगे दिल में आग ना लगे…

 

तुम मेरी बातों का जवाब नहीं देते तो कोई बात नहीं…
मेरी कब्र पर जब आओगे तो हम भी ऐसा ही करेंगे…

 

वो पल में बीते साल लिखूँ या सदियों लम्बी रात लिखूँ…
मैं तुमको अपने पास लिखूँ या दूरी का एहसास लिखूँ…

 

जीने के लिए नहीं चाहा है तुम्हें…
तुम्हें चाहने के लिए जीते हैं अब हम…

 

आँसू तब नहीं आते जब आप किसी को खो देते हो..
आँसू तब आते हैं जब खुद को…
खोकर भी किसी को पा नहीं सकते…

 

दिल से दिल मिले होते तो हमारे भी सपने पुरे हो जाते…
फूल काँटों पर नहीं खिले होते तो…
फूल तो कोई भी बन जाते अगर कांटे नहीं होते…

 

तुझसे दूर रहकर मोहब्बत बढ़ती जा रही है…
क्या कहूँ कैसे कहूँ ये दुरी तुझे और करीब ला रही है…

 

तेरी याद में तबियत मचल जाती है…
वक़्त-ऐ-शाम की सूरत बदल जाती है…
जब तीर ख्यालों का चुभता है जिगर में…
तो मेरे सब्र की नीयत पिघल जाती है…

 

नजरें करम मुझ पर इतना न कर कि…
तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊँ…
मुझे इतना न पिला इश्क-ऐ-जाम कि…
मैं इश्क के जहर का आदी हो जाऊँ…

 

वक़्त जाता है मगर नादानी नहीं जाती…
कभी चाहत की दिल से रवानी नहीं जाती…
तुम मत करो खामोशी दरमियाँ इरादों के…
कभी किसी भी खौफ से जवानी नहीं जाती…

 

हर शख्स दुनिया में हम सफर ढूँढ़ता है…
हर ख्वाब तदबीरों का असर ढूँढ़ता है…
बंदिश रुक जाती है रस्मों की राह में…
जब किसी को कोई दर-बदर ढूँढ़ता है…

 

नजर मिलती है मगर कोई बात नहीं होती…
चाहत के कदमों की कोई रात नहीं होती…
मेरी गुफ्तगू होती है गमें-ख्याल से मगर…
रूबरू तुमसे कोई मुलाकात नहीं होती…

 

मैं तेरी तमन्ना को छोड़कर आया हूँ…
मैं दर्द की बंदिश को तोड़कर आया हूँ…
भूल गया हूँ मंजिल को राह-ऐ-इश्क की…
मैं यादों की लहर को मोड़कर आया हूँ…

 

तेरे दिल की बात बदल न जाए कहीं…
वक़्ते-मुलाकात निकल न जाए कहीं…
कब तक करूँ यकीन तेरे प्यार पर…
तन्हाई में रात ढल न जाए कहीं…

 

तेरी याद मुझसे भुलायी न गयी…
तेरी याद दिल से मिटायी न गयी…
चाहत जल रही है सीने में मगर…
आग तिश्नगी की बुझायी न गयी…

 

मुझे तेरी चाहत ने सँभलने न दिया…
मुझे दर्द से खुद को जुदा करने न दिया…
आती रहती है सदा यादों की हर-पल…
मुझे जख्म देकर भी कभी मरने न दिया…

 

तेरी बेकरारी आज भी कमाल है…
मेरी जिन्दगी को तेरा ही ख्याल है…
भूल चुका हूँ गम के अंजाम को मगर…
तेरी जुदाई का आज भी मलाल है…

 

तुम कभी तो आओगे सबको छोड़कर…
रस्मों की जंजीर से खुद को तोड़कर…
हमको मिल जाएँगी कभी तो मंजिलें…
दर्द की राहों से रुख अपना मोड़कर…

 

मैं होश में होकर भी मदहोश सा रहता हूँ…
मैं यादों की चुभन को खामोश सा सहता हूँ…
अब खौफ इस कदर है इस बेरहम जमाने का…
मैं गमें-तन्हाई से दिल की बात करता हूँ…

 

मैं जी रहा हूँ तुमको पाने की आस लिए…
मैं जी रहा हूँ सीने में तेरी प्यास लिए…
यादें बंधी हुई हैं साँसों की डोर से…
चाहत के रंगों में तेरा एहसास लिए…

 

जब भी तेरी यादें पलक खोलतीं हैं…
कश्तियाँ खयाल की साँसों में डोलतीं हैं…
लफ्ज तोड़ देते हैं खामोशी अपनी…
मंजिलें भी तेरा ही नाम बोलतीं हैं…

 

टूट गया हूँ मैं गमें-अंजाम देखकर…
टूट गया हूँ मैं गमें-नाकाम देखकर…
चाहत रो रही है राहे-तन्हाई में…
तेरी बेवफाई का पैगाम देखकर…

 

तेरी चाहत मेरी आदत की तरह है…
मेरी जिन्दगी में इबादत की तरह है…
धड़कनों में गूँजती है यादों की सदा…
मेरी बंदगी की इबारत की तरह है…

 

तुम मेरी मोहब्बत को इन्कार न करो…
तुम मेरी आरजू को लाचार न करो…
मैं जी रहा हूँ जिन्दगी उम्मीदों पर…
तुम मेरी कोशिशों को यूँ बेकार न करो…

 

तुझे भूलने की कोशिश नाकाम हो रही है…
तेरे बगैर मेरी तन्हा शाम हो रही है…
मैं भूल गया हूँ अपनी तमन्नाओं को मगर….
हर साँस की रवानी तेरे नाम हो रही है…

 

तेरे इंतजार में कब से उदास बैठे हैं…
तेरे दीदार में आँखे बिछाये बैठे हैं…
तू एक नजर हम को देख ले बस…
इस आस में कब से बेकरार बैठे हैं…

 

कब तक रहेगी मेरे सब्र की घड़ी…
हर वक़्त घेरती है यादों की लड़ी…
बेबसी का दौर है आज भी कायम…
दर्द की लकीरें हैं मेरी हथकड़ी…

 

जब भी गुजरे रुक गए हम खंडहरों के पास…
जैसे कुछ यादें हो अपनी उन घरों के आस पास…
इस तमन्ना में ही अब तो कट रही है जिंदगी…
इस सफर के बाद शायद घर आ जाएगा…
कहने को तो इस शहर में कुछ नहीं बदला…
पर मौसम अब वो सुहाने नहीं होते…
जहाँ ठहर जाओ वहीं अपना बसेरा है…
हम आवारा परिंदों के ठिकाने नहीं होते…
सुर्ख गुलाब सी तुम हो जिन्दगी के बहाव सी तुम हो…
हर कोई पढ़ने को बेकरार पढ़ने वाली किताब सी तुम हो…

 

जो तेरे गुलाबी लब मेरे लबों को छू जाये…
मेरी रूह का मिलन तेरी रूह से हो जाये…
जमाने की साजिशों से बेपरवाह हो जाये…
मेरे ख्वाब कुछ देर तेरी बाहों में सो जाये…
मिटा कर फासले हम प्यार में खो जाये…
आ कुछ पल के लिये एक-दूजे के हो जाये…

 

तेरे सिवा कोई मेरे जज्बात में नहीं…
आँखों में वो नमी है जो बरसात में नहीं…
पाने की कोशिश तुझे बहुत की मगर…
तू एक लकीर है जो मेरे हाथ में नहीं….

 

हसरतें कुछ और है वक्त की इल्तजा कुछ और है…
कौन जी सका है जिन्दगी अपने मुताबिक…
दिल चाहता कुछ और है होता कुछ और है…

 

गरीबी रातभर लड़ती रही सर्द हवाओं से…
अमीरी ने कहा वाह क्या मौसम आया है…

 

बित गया बचपन आयी है जवानी…
ऑफिस में ही बीत जाती है जिंदगी की कहानी…

 

सोचा था इस कदर उनको भूल जाएँगे…
देखकर भी अनदेखा कर जाएँगे…
पर जब जब सामने आया उनका चेहरा…
सोचा एक बार देख लें अगली बार भूल जाएँगे…

 

इन आँखों को जब जब उनका दीदार हो जाता है…
दिन कोई भी हो लेकिन मेरे लिए त्यौहार हो जाता है…

 

मैंने पूछा एक पल में जान कैसी निकलती है…
उसने चलते चलते मेरा हाथ छोड़ दिया…

 

तबाह हूँ तेरे प्यार मे तुझे दूसरों का ख्याल है…
कुछ मेरे मसले पर भी गौर कर मेरी जिन्दगी का सवाल है…

 

डर यह भी है कि कही मैं तुझे खो ना दूँ…
सच यह भी है कि मेने तुम्हें पाया भी तो नहीं…

 

माना कि ना देखा है ना छुआ है ना पाया है तुझको…
लेकिन तेरे इश्क में सा सुकून आया है मुझको…

 

गम नहीं, शिकवा नहीं, अफसोस में दिल रोया है…
कितना बदनसीब है वो जो पाकर हमें खोया है…

 

कितनी मतलबी हो गई है ऐ मेरी आँखे…
तेरे दीदार के बिना इनको दुनिया अच्छी नहीं लगती…

 

मोहब्बत भी अजीब चीज बनाई… खुदा तूने…
तेरे ही मंदिर में… तेरी ही मस्जिद में…
तेरे ही बंदे… तेरे ही सामने रोते हैं…
तुझे नहीं… किसी और को पाने के लिए…

 

खयालात मिले ना मिले पर दिल मिलना जरूरी है…
वक्त मिले ना मिले पर वक्त निकालना जरूरी है…
वक्त बेवक्त ना सही पर…
कभी-कभी याद करना भी जरूरी है…
क्योंकि हर बात कही नहीं जाती…
इसलिए जज्बात समझना भी जरूरी है…

 

तुम करना रोज आसमाँ से बातें…
मैं रात चाँद से वो किस्से सुनूँगी…
तुम भागना बागों में तितलियों के पीछे…
मैं गुलों से तुम्हारी महक पूछ लूँगी…
तुम लिखना साहिल पर नाम अपना…
मैं लहरों पे चल उस नाम से मिलूँगी…
तुम लिखना पैगाम बना हवाओं के कागज…
मैं हर पैगाम को चूम लूँगी…

 

कभी तुम याद आए कभी कहानी याद आई…
कभी जो तुमने दी थी वो निशानी याद आई…
ये वक़्त है कि दिन में पाँव जमीन पर रहते हैं…
रात में इक ख्वाहिश आसमानी याद आई…
हर रात आ कर चाँद क्यों चला जाता है फिर
कभी उसका जाना कभी जवानी याद आई…
तस्वीर में सभी रंगों का होना भी जरूरी है…
ठहरा हुआ मंजर तो कभी रवानी याद आई…
नए फूल नई बहारें, गुलशन नया नया सा है…
फिर भी भूली बिसरी याद पुरानी याद आई…

 

कितना प्यार है तुमसे… ?
कैसे तुम्हें अपनी शायरी के सहारे बताऊँ…
महसूस कर मेरे एहसास को…
अब गवाह मैं कहाँ से लाऊँ…

 

जमाने से नहीं हम तन्हाई से डरते हैं…
प्यार से नहीं हम रूसवाई से डरते हैं…
दिल मेंं उमंग है तुझसे मिलने की पर…
मिलने के बाद आने वाली जुदाई से डरते हैं…

 

हर ख्वाब, हर खयाल में हो तुम…
मेरी रूह के, हर एहसास में हो तुम…
कौन कहता है, मुझसे दूर हो तुम…
मैं अगर जिस्म हूँ, तो मेरी जान हो तुम…
चुपके से आकर इस दिल में उतर जाते हो…
सांसों में मेरी खुशबू बन के बिखर जाते हो…
कुछ यूँ चला है, तेरे इश्क का जादू…
सोते जगते तुम ही नजर आते हो…

 

तुम्हारी नाराजगी अलग थी…
तुम्हारी सादगी अलग थी…
हम भी आशिक पुराने थे…
पर तुमसे वो आशिकी अलग थी…
आज भीगी हे पलकें एक फरियाद में…
अश्क भी सिमट गया है अपने आप में…
ओस की बूंदे ऐसे बिखरी पत्तों पर…
मानो चाँद भी रोया हो किसी की याद में…
हर तरफ खामोशी का साया है…
जो कल मेरा था जालिम आज वो पराया है…

 

आदमी खुद से मिला हो तो गजल होती है…
खुद से ही शिकवा-गिला हो तो गजल होती है…
अपने जज्बात को लफ्जों में पिरोने वालों…
डूब कर शेर कहा हो तो गजल होती है…
गैर से मिलके जहाँ खुद को भूल जाये कोई…
कभी ऐसा भी हुआ हो तो गजल होती है…
दिल के ठहरे हुए खामोश समन्दर में कभी…
कोई तूफान उठा हो तो गजल होती है…
बेसबब याद कोई बैठे-बिठाये आये…
लब पे मिलने की दुआ हो तो गजल होती है…
सिर्फ आती है सदा दूर तलक कोई नहीं…
उस तरफ कोई गया हो तो गजल होती है…
देखो जरा गौर से सुनना उसको…
गुनगुनाती सी हवा हो तो गजल होती है…

मैं ख्वाहिशों सा हूँ कहाँ अब कौन मेरे साथ है…
जिंदगी जिद से मिली है खुदको ना अहसास है…
पास खड़ा हूँ तेरे मैं क्या वजूद का ये सवाल है…
पाया है क्या खोकर मुझे तू एक भी ना जवाब है…
चलते चलते खत्म हुआ बस वक्त भी ना गुलाम है…
मौके मिले जितने यहाँ मुझे मैंने सारे किए बर्बाद हैं…
मेरे सामने हैं कई खड़े अब किसको यहाँ मैं नकार दूँ…
पहचानता सबको यहाँ हूँ किसको पलट कर जवाब दूँ…
उंगलियां उठ रहीं हैं मुझपे सवालों के सबका जवाब हूँ…
मानता अपना सभी को मैं कैसे किसी को झूठे ख्वाब दूँ…

जिन्दगी से लम्हे चुरा बटुए मे रखता रहा…
फुरसत से खरचूंगा बस यही सोचता रहा…
उधड़ती रही जेब करता रहा तुरपाई…
फिसलती रही खुशियाँ करता रहा भरपाई…
इक दिन फुरसत पायी सोचा…
खुद को आज रिझाऊँ बरसों से जो जोड़े…
वो लम्हे खर्च आऊँ…
खोला बटुआ… लम्हे न थे जाने कहाँ रीत गए…
मैंने तो खर्चे नहीं जाने कैसे बीत गए…
फुरसत मिली थी सोचा खुद से ही मिल आऊँ…
आईने में देखा जो पहचान ही न पाऊँ…
ध्यान से देखा बालों पे चांदी सा चढ़ा था…
था तो मुझ जैसा पर जाने कौन खड़ा था…

 

Friends… आप हमारे Telegram Channel से अवश्य जुड़ें यहाँ हर रोज नये सुविचार और बहुत सारे Shayari और Status Videos आपके लिए उपलब्ध कराया जाता है।

यहाँ Click करें → Telegram Channel

Telegram

 

Shero Shayari in Hindi | Sher O Shayari शेरो शायरी हिन्दी में

के इस Best Collection में से अगर आप Shayari के किसी Photo को Download करना चाहते हैं तो बस आपको उस Photo पर Click करना है और तुरंत HD Photo Download हो जायेगा फिर आप उसे आप अपने दोस्तों के साथ Share कर सकते हैं।

Thank You … Friends

Please Friends ... Share जरूर करें ...

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top