May 22, 2022
देशभक्ति शायरी

देशभक्ति शायरी

100 Best देशभक्ति शायरी Desh Bhakti Shayari

देशभक्ति शायरी Desh Bhakti Shayari, Indian Army Shayari के इस Best Shayari के Collection में आपका स्वागत है दोस्तों …

Friends… आप हमारे Telegram Channel से अवश्य जुड़ें यहाँ हर रोज नये सुविचार और बहुत सारे Shayari और Status Videos आपके लिए उपलब्ध कराया जाता है।

यहाँ Click करें → Telegram Channel

Telegram

 

देश भक्ति शायरी हिंदी
देशभक्ति स्टेटस हिंदी
शायरी देशभक्ति पर
15 अगस्त की देशभक्ति शायरी
शायरी देशभक्ति
दर्द भरी देशभक्ति शायरी
जोश भर देने वाली देशभक्ति शायरी
देश भक्ति शायरी
दिल को छू जाने वाली देशभक्ति शायरी
15 अगस्त की देशभक्ति शायरी 2021

 

देशभक्ति शायरी

 

पाना है जो मुकाम वो मुकाम अभी बाकी है…
करना है एक काम जो शरहद के नाम अभी बाकी है…

लिख रहा हूँ मैं अंजाम जिसका कल आगाज आएगा…
मेरे लहू का हर कतरा इंकलाब लाएगा…
मैं रहूँ या ना रहूँ पर एक वादा है तुमसे मेरा…
कि मेरे बाद वतन पे मरने वालो का सैलाब आएगा…

हमारे यहाँ जवान मरते नहीं हैं…
या तो वो विजय होते हैं या फिर अमर होते हैं…

 

देशभक्ति शायरी

 

बात यह हवाओ को बताये रखना…
मेरा हिंदुस्तान रोशन होगा दीये जलाये रखना…
रखा है जिसको महफूज अपना लहू बहाकर…
दिल में सदा उस तिरंगे को बसाये रखना…

 

इसे भी पढ़ें Love Quotes in Hindi

 

सर्दी मास्टर और लैक्चरों के लिए बढ़ी है सहाब…
खेत में किसान और सीमा पर जवान तो आज भी वही है…

तू ले जा जितने चाहे जितने चाहे सर मेरे…
मैं शहादत के लिए पूरा कारवां लिए बैठा हूँ…

आसान कोनी फौजी कहलाना…
रगो में जज्बातां की जगा लोह भरना पड़ा करै…
जय हिन्द जय भारत मां

 

देशभक्ति शायरी

 

इस जहां में मिलते हैं बहुत सारे आशिक…
लेकिन वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता…
नोटों और सोने से लिपटकर मरते हैं कई लोग…
लेकिन तिरंगे से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता…

 

देशभक्ति शायरी 

 

मैं अपने देश का हरदम सम्मान करता हूं…
यहां की मिट्टी का ही मैं गुणगान करता हूं…
हम डरते नहीं है अपने मौत से…
तिरंगा बने मेरा कफन मैं यही अरमान रखता हूं…

कुछ नशा इस तिरंगे के आन का है…
तो कुछ नशा मातृ- भूमि के शान का है…
हम हर जगह लहराएंगे इस तिरंगे को…
नशा यह हिंदुस्तान कि शान का है…

पाना है जो मुकाम वो मुकाम अभी बाकी है…
करना है एक काम जो सरहद के नाम अभी बाकी है…

हमारे यहाँ जवान मरते नहीं हैं…
या तो वो विजय होते हैं या फिर अमर होते हैं…
सभी शहीदों को नमन है…

 

देशभक्ति शायरी

 

हमारी शोहरत को तुम क्या पहचानोगे गालिब…
हम जब मस्जिद के पास से भी गुजरते हैं…
तो मौलवी भी कहता है… राम राम फौजी साहब…

मुझे ना तन चाहिए ना धन चाहिए…
बस अमन से भरा यह भजन चाहिए…
जब तक जिंदा हूं इस मातृभूमि के लिए…
और जब मरू तो तिरंगा कफन चाहिए…

अरे कितने मिट गए इस माटी पर…
कितनों का बलिदान अभी जारी है…
दुनिया भर के झंडों पर अपना तिरंगा भारी है…

यूं तो हम रोज ही सौ बार सौ बात कर लेते हैं…
क्यों ना आज बिना किसी वजह एक शहीद को याद कर लेते हैं…

 

देशभक्ति शायरी

 

मिट्टी में मिला दो उन गद्दारों को…
जो घर में बैठ कर बात करें और…
गर्दन काट लूं कुत्तों की जो राष्ट्रद्रोह की बात करे…

काश मेरी ज़िन्दगी में सरहद की कोई शाम आए…
मेरी ज़िन्दगी मेरे वतन के काम आये…
ना खौफ है मौत का ना आरजू है जन्नत की…
लेकिन जब कभी जिक्र हो शहीदों का…
काश मेरा नाम भी आए काश मेरा नाम भी आए..

उन आँखों की दो बूंदों से सातों सागर हारे हैं…
जब मेहँदी वाले हाथों ने मंगल – सूत्र उतारे हैं…

कहाँ छुपा के रख दूं मैं अपने हिस्से की शराफत…
जिधर भी देखता हूँ उधर बेईमान खड़े हैं…
क्या खूब तरक्की कर रहा है अब देश देखिये…
खेतों में बिल्डर, सड़क पर किसान खड़े हैं…

जमीन जल चुकी है आसमान बाकी है…
सूखे कुँए तुम्हारा इम्तहान बाकी है…
बरस जाना इस बार वक़्त पर हे मेघा…
किसी का मकान गिरवी है किसी का लगान बाकी है…

 

देशभक्ति शायरी

 

क्यों ना सजा दी पेड़ काटने वाले शैतान को…
खुदा तूने सजा दे दी सीधे-साधे किसान को…

मेरे जज्बातों से मेरा कलम इस कदर वाकिफ हो जाता है…
मैं इश्क भी लिखना चाहू तो इंकलाब लिखा जाता है…

Desh Bhakti Shayari

 

किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ के आया हूँ…
मेरी नन्ही सी चिड़ियाँ को चहकता छोड़ के आया हूँ…
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ धरती माँ…
मैं अपनी माँ की बांहो को तरसता छोड़ के आया हूँ…

कभी जो काम आ जाये तो…
उसे हमसे उम्मीद ए खास मदद होती है…
वो फौजी ही है दोस्तों…
जो जान देकर कभी न हमसे कोई आस होती है…

 

देशभक्ति शायरी

 

बॅाडर पे क्या खुब कहा…
हमारे एक जवान ने पाकिस्तानी जवान को…
खुशनसीब हो तुम जो शेरों का शिकार करते हो…
हमे तो रोज कुत्तों को मारने पड़ते हैं…

 

इसे भी पढ़ें God Shayari in Hindi

 

जिस ज़िंदगी को तुने “फिक्र”में जिया…
उस ज़िंदगी को उसने “फर्क”से जिया…

उसमें और मुझमें अंतर बस इतना था कि…
वो जिया अपने“वेतन”के लिए और…
मैं जिया अपने सिर्फ“वतन”के लिए…

जिनमें अकेले चलने के हौसले होते हैं…
एक दिन उन्हीं के पीछे पूरे काफिले होते हैं…

मुझे ना तन चाहिए ना धन चाहिए…
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए…
जब तक जिन्दा रहूं इस मातृ-भूमि के लिए…
और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये…

 

Indian Army Shayari

 

वतन हमारा ऐसा कोई छोड़ ना पाये…
रिश्ता हमारा कोई तोड़ ना पाये…
दिल में एक है मां का स्थान और दूजा हिंदुस्तान है…
हिंदुस्तान हमारा है हम इसकी शान है…

खुशनसीब है वो जो वतन पर मिट जाते हैं…
मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं…
करता हूं उन्हें सलाम ऐ वतन पर मिटने वालों…
तुम्हारी हर सांस में तिरंगे का नसीब बसता है…

सरहद पर एक फौजी अपना वादा निभा रहा है…
धरती मां की मोहब्बत का कर्ज चुका रहा है…

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं…
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं…

साहिल पे पहुंचने से इनकार किसे है लेकिन…
तूफानों से लड़ने का मजा ही कुछ और है…
कहते हैं कि किस्मत खुदा लिखता है लेकिन…
उसे मिटा के खुद गढ़ने का मजा ही कुछ और है…

कोशिश भी कर उमीद भी रख रास्ता भी चुन…
फिर इसके बाद थोड़ा सा मुकद्दर तलाश कर…

बेहतर से बेहतर कि तलाश करो…
मिल जाये नदी तो समंदर कि तलाश करो…
टूट जाता है शीशा पत्थर कि चोट से…
टूट जाये पत्थर ऐसा शीशा तलाश करो…

 

इसे भी पढ़ें Nature Shayari Hindi

 

समुंदर में उतर लेकिन उभरने की भी सोच…
डूबने से पहले… अपने गहराई का अंदाजा लगा…

 

देशभक्ति शायरी 

 

मिजाज में थोड़ी सख्ती भी जरूरी है दोस्तों…
लोग पी जाते अगर समंदर खारा ना होता…
शहीदों को नमन…

जिसकी वजह त…
सारा देश चैन की साँस सोया करै…
वो मारो फौजी होया करै…

लिख रहा हूँ मैं अंजाम जिसका कल आगाज आएगा…
मेरे लहू का हर कतरा इंकलाब लाएगा…
मैं रहूँ या ना रहूँ पर एक वादा है तुमसे मेरा…
कि मेरे बाद वतन पे मरने वालों का सैलाब आएगा…

फांसी का फंदा भी फूलों से कम न था…
वो भी डूब सकते थे इश्क में किसी के पर…
वतन उनके लिए माशूका के प्यार से कम न था…

एक सैनिक ने क्या खूब कहा है…
किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ…
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ…
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ…
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ…
शहीदों को नमन… जय हिन्द

साहिल पे पहुंचने से इनकार किसे है लेकिन…
तूफ़ानो से लड़ने का मजा ही कुछ और है…
कहते हैं कि किस्मत भगवान लिखता है लेकिन…
उसे मिटा के खुद गढ़ने का मजा ही कुछ और है…

दम निकले इस देश की खातिर बस मेरा यही अरमान है…
इक बार इस राह पर मरना 100 जन्मों के समान है…

सीनें में ज़ुनून ऑखों में देंशभक्ति की चमक रखता हूं…
दुश्मन के साँसें थम जाए आवाज में वो धमक रखता हूं…

जशन आज़ादी का मुबारक हो देश वालों को…
फंदे से मोहब्बत थी हम वतन के मतवालों को…
जमाने भर मे मिलते हैं आशिक कई मगर…
वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता…
नोटों मे लिपट कर, सोने मे सिमटकर मरे है कई…
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफन नहीं होता…
देश के शहीदों को नमन … जय हिन्द जय शहीद…

मैं जला हुआ राख नहीं, अमर दीप हूँ…
जो मिट गया वतन पर, मैं वो शहीद हूँ…

देश के लिए कुछ करने वाले सिर्फ बातें करा नहीं करते…
चाहे देनी पड़े अपनी जान किसी से डरा नहीं करते…

आज तिरंगा लहराता है, अपनी पूरी शान से…
हमें मिली आजादी, वीर शहीदों के बलिदान से…

 

इसे भी पढ़ें Pyar Wali Shayari

 

वर्दी पहन लो तो बुराइयाँ खत्म करने की चाहत जगती हैं…
पर सियासत जब हाथ बाँध दे तो वर्दी सजा सी लगती हैं…

हिमालय से ऊंचा साहस उनका…
सर जो किसी के आगे ना झुका…
मात्रिभुमी के खातिर किया सब अर्पण…
ऐसे वीरों को मेरा शत शत नमन है…

 

Desh Bhakti Shayari

 

जिन्दगी की राहों में अंधेरा बहुत है….
ये कभी मत कहना…
राहों को रौशन करना है अगर…
तो दिल में सदा उम्मीद की लौ जलाये रखना…

मंजिल पे जिन्हें जाना है तूफानों से डरा नहीं करते…
तूफानों से जो डरे मंजिल कभी पाया नहीं करते…

पहले वो आप पर ध्यान नहीं देंगे फिर वो आप पर हँसेंगे…
फिर वो आप से लड़ेंगे और तब आप जीत जायेंगे…

लड़े वो वीर जवानों की तरह ठंडा खून भी फौलाद हुआ…
मरते – मरते भी कई मार गिराए तभी तो देश आजाद हुआ…

अगर अधर्मी सिर्फ समझाने से समझ जाते तो…
बाँसुरी बजाने वाला कभी महाभारत नहीं होने देता…

जिन्दगी जब तुझको समझा मौत फिर क्या चीज है…
ऐ वतन तू हीं बता तुझसे बड़ी क्या चीज है…

फौजी भी कमाल के होते हैं…
जेब के छोटे बटुए में परिवार…
और दिल मे सारा हिंदुस्तान रखते हैं…

यदि अपना शौर्य सिद्ध करने से पूर्व मेरी मृत्यु आ जाए तो…
ये मेरी कसम है कि मैं मृत्यु को ही मार डालूँगा…

दुश्मनों को पहुँचाऊँगा कब्र के देश…
तेरे वास्ते कफन पहनूंगा तिरंगे सा खेश…

हमारा झण्डा इसलिए नहीं फहराता कि…
हवा चल रही होती है…
ये हर उस जवान की आखिरी साँस से फहराता है…
जो इसकी रक्षा में अपने प्राणों का उत्सर्ग कर देता है…

देशप्रेम का दीपक यूँ ही हम सबके दिलों में जलता रहे…
जब तक जिएं तब तक देश के सेवा करें…

चीर के बहा दूं लहू दुश्मन के सीने का…
यही तो मजा है फौजी होकर जीने का…

बाजी लगा देंगे अपनी जान की…
जब बात चलेगी हिंदुस्तान की…

खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं…
मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं…
करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों…
तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है…

मरने के बाद भी जिसके नाम में जान हैं…
ऐसे जाबाज सैनिक हमारे भारत की शान है…
देश के उन वीर जवानों को सलाम…

रिवायत सी बन गयी है देशभक्ति तो जनाब…
बस लोग तारीखों पर फर्ज अदा करते हैं…

सीमा नहीं बना करतीं हैं कागज खींची लकीरों से…
ये घटती-बढ़ती रहती हैं वीरों की शमशीरों से…

 

Friends… आप हमारे Telegram Channel से अवश्य जुड़ें यहाँ हर रोज नये सुविचार और बहुत सारे Shayari और Status Videos आपके लिए उपलब्ध कराया जाता है।

यहाँ Click करें → Telegram Channel

Telegram

देशभक्ति शायरी Desh Bhakti Shayari

के इस अच्छे Collection में से अगर आप Shayari के किसी Photo को Download करना चाहते हैं तो बस आपको उस Photo पर Click करना है और तुरंत HD Photo Download हो जायेगा फिर आप उसे आप अपने दोस्तों के साथ Share कर सकते हैं।

Thank You … Friends

Sneha Shukla

I am an admin at shayarikidiary. I like to share information and knowledge. I love expressing my thoughts through my articles. Writing is my passion. I love to write about travel, tech, health, fashion, food, education, etc. In my free time, I like to read and research. My readings and research help me to share the information through my thoughts.

View all posts by Sneha Shukla →

Leave a Reply

Your email address will not be published.